हस्तमैथुन से नुकसान – Masturbation Side Effect in Hindi

Masturbation को हिन्दी मे हस्तमैथुन कहा जाता है. जहा तक हस्तमैथुन की बात आती है यह जितना हमे फायदा देता है उससे ज़्यादा नुकसान भी पहुंचाता है अगर हम इसे सही तरीके से नही करे।

अक्सर कम उम्र मे लड़के कामुकता के प्रति आकर्षित हो जाते है. इसका बड़ा reason सही समय पर सही शिक्षा का नही मिलना है। सही अवस्था मे अगर आप सही limit के साथ हस्तमैथुन कर रहे है तो वा आपके लिए फयदेमंद होता है।

लेकिन अगर आप इसका गलतफहमी कर रहे है तो यह आपके शारीर के लिए बहुत ही नुकसानदायक है. जी हाँ यह आपके शादी के बाद बचा पैदा करने के समय भी परेशानी का विषय हो सकता है. आइये जानते है हस्थमैथुन से क्या क्या नुकसान है।  

हस्तमैथुन को अच्छा या बुरा नही कह सकते है अगर सचमुच मे आपको इसकी ज़रूरत है तो आप इसे कर सकते है। नही तो आप किसी के दबाब मे इसे करने से बचे. ये ध्यान रखे की यह आपके लिए और आपके आने वाले संतान प्राप्ति के लिए बेहद हानिकारक हो सकता है. तो चलिए आज हम आपको हस्तमैथुन के नुकसान यहा बताने जा रहे है।

हस्तमैथुन से नुकसान | Masturbation Side Effect in Hindi

जवानी में हस्तमैथुन की शुरुवात सबसे ज़्यादा होने की संभावना रहती है और होने पर दिन में बार-बार हस्तमैथुन करने का मन करता है। आमतौर पर मैथुन करने के लिए पुरुष अपने हाथ का इस्तेमाल करते हैं। वैसे तो हस्तमैथुन के कोई नुकसान नहीं हैं। लेकिन कई बार ग़लत ढंग से या ज़्यादा से ज़्यादा करने पर बहुत नुकसानदायक है।

मांसपेशियों का टूटना

हस्तमैयथन करते समय अगर आप अपने lng को कसकर दबाने या मोड़ने की कोशिश कर रहे है तो इससे आपको pyroni नामक बीमारी हो सकती है. यही नही कसकर रगड़ने से आपके pennel भी फक्तुरे हो सकता है यानी आपके lng की मांसपेशिया टूट सकती है. इस बीमारी के होने से आपके मांसपेशिया टूट या कमजोर हो जाती है जिससे आपका lng टेढ़ा हो जाता है. हस्तमैथुन ज़्यादा करने से lng मे रक्त स्राव का ख़तरा बढ़ जाता है।

l*ng मे सूजन 

अक्सर जब हम मैथुन करते है तो ज़्यादा आनंद आने पर हम अपने lng को जल्दी जल्दी रगड़ने लगते है जिससे कारण lng की मांसपेशियो से निकालने वाला वीर्य (sperm) के पहले निकालने वाला पानी मांसपेशियो मे चला जाता है जिसके कारण लिंग मे सूजन आ जाता है और यह सूजन तब तक रहती है जब तक वा पानी वापस रक्त मे नहीं चला जाता है. सूजन का दूसरा कारण यह है की अगर आप किसी भी वस्तु को ज़्यादा से ज़्यादा रगोडेगे तो वा ज़रूरी है की सुजेगा ही या कोई और दुष्परिणाम से ग्रसित होगा।

बालो का झड़ना

ज़्यादा से ज़्यादा हस्तमैथुन करने से testosterone hormone का निर्माण जल्दी मे होता है और उससे कोलेस्ट्रोले ज़्यादा से ज़्यादा निर्मित होता है. जिससे आपके बाल पतले होते है और बाल झड़ने लगते है. दूसरी बात ज़्यादा हस्तमैथुन करने से आपको शरीर मे कमज़ोरी महसूस होती है जिससे आपके मन असंतुष्ट भी रहता है।

मेटाबॉयलिज़्म का प्रभाव

हम बड़ी मुश्किल से अच्छे से अच्छे फल-सब्जिया खाकर अपने शरीर के लिए प्रोटीन दे पाते है. लेकिन ये कुछ पल का आनंद हमारे उस मेहनत को फीका कर देता है। जब हम हस्तमैथुन करते है तो पहली बार जो liquid निकलता है उसमे बहुत प्रोटीन की मात्रा होती है जो कई चयापचय activities और cells के निर्माण के लिए बहुत ज़रूरी होता है. प्रोटीन हमारे शरीर के parts को निर्माण के लिए बहुत ही ज़रूरी होता है. रस्खलन ज़्यादातर आपको दुबला बनंता है और मांसपेशियो के निर्माण के लिए चयापचय का ध्यान खिचता है।

अवैध संपर्क कम होते हैं

जहा तक देखा गया है हस्तमैथुन आपको बुरे कामो या बुरे जगह का ध्यान देता है इसका main reason है की उत्तेजना रोजना बढ़ती है। अगर आपने इसपर control नही किया तो यह आपके लिए ख़तरे से खाली नही है। और अंत मे आपको यौन सुख के लिए दूसरे तरीके ढूढ़ने होते है. इसलिए अभी से अपने पे control करे और हस्तमैथुन से दूर रहे।

संतुष्टि मे कमी

अगर आप रोजाना हस्तमैथुन करते है तो इससे आपका सबसे बड़ा खतरा ये है की आज आप 1 बार कर रहे है तो कल आप 2 बार try करेंगे क्यूंकी कोई भी काम जिससे हमे कुछ पल के लिए आनद मिलता है तो हम उसे ज़रूरी दोबारा try करते है यह हर इंसान की खूबी है. और दूसरी बात अगर आज आप थोड़ा time हस्तमैथुन कर रहे है तो दूसरे दिन आपका समय भी बढ़ जाएगा. इसके साथ ही आपका वीर्या रसखलित होने का time भी बढ़ जाता है. इसके अलावा हस्तमैथुन की आदत erectile dysfunction रोग का मैं कारण होती है.

मनोवैज्ञानिक प्रभाव

हस्तमैथुन जहा आपको कुछ पल के लिए खुशी देता है उससे ज़्यादा आपके मन और आत्मा पर बुरा असर डालता है। आपने ख्याल किया होगा जब आप हस्तमैथुन करते है तो आप कुछ ना कुछ बुरा सोचने की कोशिश करते है जिससे आपका मन पर बुरा असर पढ़ता है. इसके अलावा हस्तमैथुन आपको Psychological तौर पर effect करता है. जब आपका हस्तमैन के बाद रस्खलन होता है तो आप बुरा महसूस करते है और आपका शरीर निराशा और डरा हुआ होता है।

संतुष्टि ना होना

नियमित रूप से हस्तमैथुन करने से आपको संतुष्टि होने में अधिक समय लगता है। इसके साथ ही आपका वीर्य रसखलित होने का समय भी बढ़ जाता है। इसके अलावा हस्तमैथुन की आदत erectile dysfunction रोग का प्रमुख कारण होती है।

अवैध संबंध

हस्तमैथुन आपको अवैध सम्बन्धों की ओर ले जाता है क्युकी इसकी उत्तेजना दिन बे दिन बढ़ती है और अंत में यौन सुख के लिए आप अन्य सोर्स को ढूढ़ने लगते है। इसलिए इस समस्या को जितना कम करोगे उतने ही फायदे में रहोगे।

Partner से तकरार

हस्तमैथुन संभोग के दौरान तेज़ी से स्पर्म के रिलीज होने का प्रमुख कारण है। इससे आपके और आपकी पत्नी के बीच असंतोष पैदा हो सकता है। बहुत से लोग पार्टनर के बीच झगड़ा होने की वजह से हस्तमैथुन की और रुख बढ़ा देते हैं जिससे उन्हें हस्तमैथुन को और सुख नजर आने लगता है।

शुक्राणु की संख्या मे कमी

अगर आप रोजाना हस्थमैथुन करते है तो ज़रूरी है की आपके शुक्राणु की संख्यान मे कमी आएगी और आप आने वाले दिनो मे परेशानी के काए मे पढ़ जाएँगे। यही नही आपको बाद मे पिता बनाने मे भी बहुत कठिनाई आएगी, जिससे आपका आज का मज़ा कल सज़ा बन जाएगा।

सोच लीजिए अगर अपने इतने problems से बचना है तो आज ही control करे हस्थमैथुन से और बुरे कामों से और कु नया सोचे ज़्यादा से ज़्यादा busy रहने की कोशिश करे जिससे आपके मान मे बुरे कामो को करने का time ही नही मिलेगा. और आप हस्थमैथुन से नुकसान  के दुष्परिणामों से बच सकेंगे।

हस्तमैथुन के बारे में कुछ और जानकारी

निचे आप हस्थमैथुन से जुड़े कुछ सवाल और जवाब पद सकते है। मेने पूरी कोशिश की है की आपको एकदम सही जानकारी मिले।

हस्थमैथु से दिमाग पर क्या असर पड़ता है?

हस्थमैथुन रोजाना करने से दिमाग पे इतना असर नहीं पड़ता और है आपकी याददाश्‍त बिलकुल नहीं जाएगी (ये एक जोक किया मेने). मास्‍टरबेशन या हस्तमैथुन कोई बीमारी नहीं है। पर इसको रोज रोज करने से आपको इसकी आदत हो सकती है और इसका नुक्सान आपको लम्बे टाइम में देखेगा जो की हमने ऊपर बता ही दिया है।

1 दिन में कितनी बार हस्थमैथुन कर सकते है?

हस्थमैथुन मेरी मने तो रोज नहीं करना चाहिए। हस्थमैथुन सभी उम्र में और दोनों लिंगों में एक सामान्य अभ्यास है। जिस समय आपको लगता है कि आप हस्तमैथुन कर सकते हैं, यह एक पूरी तरह से स्वस्थ अभ्यास है। यह आप पर निर्भर करेगा – सप्ताह में 1 से 2 बार ठीक है।

हस्तमैथुन की लत से छुटकारा पाने के लिए हमने आपको पहले ही बताया। वैसे हस्तमैथुन के फायदे होते हैं लेकिन अगर आप इसे सही तरह से करें। अगर आप ज्यादा से ज्यादा हस्थमैथुन करते हैं तो इससे आपको शारीरिक और मानसिक रूप से नुक्सान होते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here