पद्मासना योग कैसे करें: विधि, लाभ एवं सावधानियां – Padmasana Yoga in Hindi

बेहतर स्वास्थय के लिए हमें अपनी जीवन-शैली को बदलना बहुत ज़रूरी है। इसके लिए हमे नियमित व्यायाम, संतुलित खान-पान, तली-भूनी चीजों से दूर रहना, सवेरे जल्दी उठना, रात को जल्दी सोना इत्यादि बातों का पालन करके हम अच्छे स्वास्थय को पा सकते है। लेकिन व्यस्त जीवन-शैली के चलते यह सभी चीजों का पालन करना हर किसी के बस की बात है। इसलिए स्वस्थ रहने के लिए कोई बेस्ट तरीका है तो वह है योगा। योग के ज़रिए हम स्वस्थ और निरोगी रहते है। हमने अपने वेबसाइट achisoch.com में सारे योग के बारे में बता रखा है। तो चलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं पद्मासना योग कैसे करें: विधि, लाभ एवं सावधानियां – Padmasana Yoga in Hindi.

Padmasana Kaise Kare aur Iske Fayde

पद्मासन योग विधि – Padmasana Benefits in Hindi

पद्मासन का मतलब है कमल यानी कमल का आसान। यह योगा का एक ऐसा आसान है जिसमें शरीर को कमल के आसन में बैठने का आकार दिया जाता है। यह आसन केवल ध्यान में बैठने का तरीका है। लेकिन इस आसान से शरीर को काफ़ी लाभ मिल सकते है।

Step 1: किसी समतल जगह पर एक दरी या चटाई बिछाएं।

Step 2: धीरे-2 पैरों को मोड़ें और पैरों के पंजो को दूसरे पैर की जाँघ पर आराम से रखें।

Step 3: ऐसे ही दूसरे पैर के पंजे को पहले पैर की जाँघ पर आराम से रखें। जो लोग दोनों पंजों को एक-दूसरी जाँघ पर ना रख सकते हो वे केवल एक ही पंजे को जाँघ पर रख सकते है।

Step 4: पैर के तलवे पेट की तरफ हो जैसे की फोटो में दिखाया गया है।

Step 5: कमर और गर्दन दोनों बिल्कुल सीधे हो।

Step 6: अब हाथों की कहानिया घुटनों पर रखें।

Step 7: दोनों कंधे बराबर और सीधे हों।

Step 8: आँखों को बंद करें और हल्की सांस लें।

पद्मासन करने से लाभ – Padmasana Benefits of in Hindi

1- यह आसन मन को शांत करता है और भटकने से रोकता है।

2- इसे करने से मेरूदण्ड सीधा, लचीला और मजबूत बनता है।

3- जो लोग तनाव से निजात पाना चाहते है उन्हें इस आसन को करने से लाभ मिलता है।

4- यह आसन के नियमित व्यायाम से बाद प्रेशर पर कंट्रोल रहता है।

5- इसके अभ्यास से वीर्य में बढ़ोतरी होती है।

6- जो व्यक्ति अपने पेट और कमर की चर्बी को कम करना चाहते है, उन्हे इसका अभ्यास नियमित करना चाहिए।

7- पद्मासन योग अभ्यास से सोच और विचार शक्ति बढ़ती है। इसलिए विद्याथियों को इस आसान को ज़रूर करना चाहिए।

8- यदि व्यक्ति अपने पेट और कमर की चर्बी को कम करना चाहते है उन्हे इसका अभ्यास नियमित करना चाहिए।

9- यही आप गर्दन और रीढ़ की हड्डी को मजबूत और लचीला बनाना चाहते है तो उन्हे पद्मासन योगासन ज़रूर करना चाहिए।

10- इसे करने से मेरूदण्ड सीधा, लचीला और मजबूत बनाता है।

पद्मासन में सावधानिया

  • जो लोग घुटनों के दर्द और या फिर शरीर में किसी सूजन से परेशान है, उन्हे यह आसन नहीं करना चाहिए।
  • इसके अलावा जिन लोगों को कमरदर्द, ओस्ट्रियो अररीटिएस और साइटिका की परेशानी हो वी भी एस आसन को न करें।
  • पद्मासन सबसे सरल आसन है और इसके फायदे भी अनेक है। इस आसन को सुबह-सुबह नियमित करें और धीरे-धीरे इस आसन के टाइम में बैठना बढ़ाएं।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here