कपालभाति प्राणायाम कैसे करें: विधि और लाभ

जब जब योग की बात आती है तो सबसे बेस्ट एक्सर्साइज़ में कपालभाति का नाम आता है। कपालभाति योगा के सभी व्यायामों में से सबसे बेस्ट एक्सर्साइज़ है। इस एक्सर्साइज़ को करने से हमारे शरीर के कई बीमारिया दूर होती है। न सिर्फ़ रोग से निपटने में मदद करता है बल्कि हमारे तन और मन दोनों को भी शांत करता है। कपालभाति प्राणायाम करने से हमारे चेहरे पर रौनक आती है। अगर आप चाहते है की आप अपने लाइफ में खुश रहें तो आप आज से ही स्टार्ट करे कपालभाति योगा। इस आर्टिकल में हम आपको कपालभाति कैसे करें, विधि और इससे हमारे शरीर को होने वाले फायदे बताने जा रहे हैं। kapalbhati yoga step by step in hindi.
Kapalbhati Pranayam Kaise Kare Fayde Benefits labh in Hindi

कपालभाति प्राणायाम  – Kapalbhati Yoga in Hindi

आजकल की जीवन शैली में ज़्यादातर लोग वजन को लेकर बहुत परेशान हैं और ये नहीं कि वे लोग मोटापे से छुटकारा पाने की कोशिश नहीं कर रहे हैं? वे बहुत मेहनत कर रहे है लेकिन सही तरीके से नहीं। बहुत से लोग मोटापे को दूर करने के लिए महँगे दवाओं का सेवन करते हैं लेकिन फिर भी उनका मोटापा वही का वही रहता है, इससे बिपरीत तमाम हानिकारक मेडिसिन खाकर और ज़्यादा बीमारी मोल ले लेते हैं। अगर आप नियमित रूप से कपालभाति योगासन कर लें तो कुछ ही समय में आप मोटापा से निजात पा सकते हैं। अगर आप अपनी लाइफ में स्वस्थ और खूबसूरत रहना चाहते तो आपको यक़ीनन कपालभाति योग. को करना चाहिए। आइये जानते हैं कपालभाति कैसे करें और इससे होने वाले स्वास्थय लाभ।

कपालभाती के फायदे – Benefits of Kapalbhati Yoga in Hindi

1- अगर आप मोटे है तो तुरंत ही आपका मोटापा कम होने लगेगा। भारतवर्ष में लगभग जिन लोगो ने कपलभाटी किया है 30-40 किलोग्राम वजन कम किया है।

2- दिमागी पावर को बढ़ाने में कपालभाति एक अच्छा योग है। इसे करने से आपका दिमागी शक्ति जल्दी काम करता है और आप किसी भी काम को एक बार करने के बाद कभी नहीं भूल सकते हैं।

3- शरीर और मन से नकारात्मक बातों को दूर करता है।

4- गैस, कब्ज और एसिडिटी की समस्या को दूर करता है।

5- चेहरे की झुर्रियों और आँखों के नीचे कालेपन को दूर कर नयी चमक लाता है।

6- कफ विकार नष्ट करता है और साँस नली को सॉफ करता है.

7- कपालभाती करते समय पसीना बहुत आता है जिससे शरीर साफ होता है।

8- इस योग को करने से रक्त धमनियों की कार्यछमता बढ़ती है और बड़ा हुआ कोलेस्टरॉल को कम करने में मदद मिलती है।

9- पेट में बढ़ी हुई अनावश्यक चर्बी को कम करने में मददगार है। यह आपके पेट को पहली अवस्था में लाने में मददगार है।

कपालभाती कैसे करे: विधि – Kapalbhati Prananyam Step By Step Process in Hindi

कपलभाटी की शुरुवात करने से पहले जाने की आपको शुबह बिना खाए ये एक्सर्साइज़ करना है। इस एक्सर्साइज़ को आप खुली हवा में कर सकते हैं।

Step 1: एक समतल जगह जहाँ अच्छी शुद्ध हवा आ रही हो, वहां पर चटाई बिछाकर बैठ जाएँ।

Step 2: अब आप सिद्धासन, पध्माशन या बज्रासन में बैठ सकते है। ऐसा नहीं है कि आपको इन तीनो में से एक पर बैठना है, आप चाहे कैसे भी बैठे जैसा आपको बेस्ट लगे।

Step 3: अब आप घुटनों पर हाथ रखिए और अपनी साँस के आने जाने पर ध्यान दीजिए। अगर आपको नीचे बैठने की आदत नहीं है तो आप कुर्शी पर भी बैठ सकते हैं।

Step 4: अब आप अपने नाक से साँस को बाहर छोड़कर की क्रिया करें जो आप रोज करते है, साँस को बाहर छोड़ते समय पेट को अंदर की ओर धक्का दें।

Step 5: अब ये प्रोसेस आप जीतने देर तक कर सकते हो करें, प्रोसेस वह होना चाहिए कि नाक से साँस बाहर छोड़ने और पेट को अंदर धक्का देने की प्रोसेस को करते रहें।

Step 6: शुरुआत में 10 बार और धीरे धीरे बढ़ते हुए एक बार मे 50 बार यह प्रोसेस करें।

Step 7: आप चाहे तो बीच में रेस्ट भी ले सकते हैं।

कपालभाति करते समय में सावधानियां- Precautions in Kapalbhati in Hindi

First: कपालभाति को मॉर्निंग में खाली पेट और पेट साफ करने के बाद ही करें।

Second: अगर खाना खाने के बाद कपालभाती करना है तो खाना खाने के 4-5 घंटे बाद करें।

Third: शुरुआत में कपालभाति किसी के साथ करें जिससे ये एक्सरसाइज आता हो।

Forth: कपालभाती करने के बाद 30 मिनट तक कुछ ना खाएं। आप चाहे तो थोड़ा पानी पी लें।

Fifth: High Blood presser और heart patient is exercise को करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें।

Sixth: Pregnant महिला, Gastric Ulcer, Epilepsy, Hernia के patient is process को न करें।

NOTE: वैसे कपालभाति एक्सर्साइज़ को करने से को साइड-एफेक्ट नहीं हैं लेकिन फिर भी इस योग को करते वक़्त चक्कर आना या जी मचलना जैसी कोई परेशानी होने पर डॉक्टर से सलाह ज़रूर लें।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *