Basant Panchami Wishes in Hindi – बसंत पंचमी की शुभकामनाएं

बसंत पंचमी के दिन हो हम वसंत ऋतु की शुरुआत और ज्ञान की देवी देवी सरस्वती के रूप में मानते है । यह छात्रों, शिक्षकों, कला और संगीत के लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण दिन होता है। इस त्योहार को बसंत या वसंत पंचमी कहा भी जाता है क्योंकि यह वसंत ऋतु के आगमन का भी प्रतीक है।

बसंत पंचमी 2022 तारीख, समय और मुहूर्त

बसंत पंचमी 2022 तारीख

इस बार बसंत पंचमी 5 फरवरी को मनाई जाएगी।

बसंत पंचमी तिथि का समय

पंचमी तिथि 5 फरवरी, 2022 को सुबह 3:47 बजे शुरू होती है और 6 फरवरी को सुबह 3:46 बजे समाप्त होती है।

बसंत पंचमी पूजा शुभ मुहूर्त

बसंत पंचमी या सरस्वती पूजा सुबह 7:07 बजे से दोपहर 12:35 बजे के बीच की जानी चाहिए।

बसंत पंचमी को भारत में कहा कहा मनाया जाता और कैसे

वसंत पंचमी को देवी सरस्वती की पूजा और ज्ञान की अवतार के रूप में मनाया जाता है । यह दिन मुख्य रूप से बंगाली समुदाय द्वारा मनाया जाने वाला है, पर अब ये कुछ त्योहारों में से एक है जो अब देश के सभी हिस्सों में धार्मिक विश्वासों से परे जाकर मनाया जाता है।

वसंत पंचमी गुजरात के कच्छ क्षेत्र में प्यार और भावनात्मक प्रत्याशा की भावनाओं से जुड़ी है और आम के पत्तों से फूलों के गुलदस्ते और माला तैयार करके मनाई जाती है। राजस्थान में लोगों के लिए चमेली की माला पहनने का रिवाज है।

महाराष्ट्र में, पीले वस्त्र पहने नवविवाहित जोड़े एक मंदिर में जाते हैं और अपनी शादी के बाद पहली बसंत पंचमी पर पूजा करते हैं। पंजाब में, सिख और हिंदू पीली पगड़ी या हेडड्रेस पहनते हैं और बच्चे खेल के लिए डोर (धागा) और गुड्डी या पतंग (पतंग) खरीदने के बाद पतंग उड़ाते हैं। सिख साम्राज्य के संस्थापक महाराजा रणजीत सिंह ने बसंत पंचमी को गुरुद्वारों में एक सामाजिक कार्यक्रम के रूप में मनाने के लिए प्रोत्साहित किया और एक वार्षिक बसंत मेला आयोजित किया।

उत्तराखंड में, सरस्वती पूजा के अलावा, लोग शिव, पार्वती को धरती माता के रूप में पूजा करते हैं, जो कृषि और फसलों का प्रतिनिधित्व करते हैं। वसंत पंचमी हमारी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का एक और उदाहरण है जो अभी भी हमारे देश को एक साथ बांधती है, जो कि विखंडनीय प्रवृत्तियों और क्षेत्रीय अतिवाद के हमले के साथ है।

Basant Panchami Wishes in Hindi

आई बसंत ऋतू और लायी खुशियाँ
कोयल गाती मशुर गीत प्यार के
चारों और जैसे सुगंध छाई।

सबके मन निर्मल हो जाए और,
सबकी सोच से बुराई और चालाकी मिट जाए,
इस बसंत में ऐसा चमत्कार हो,
सबके मन में कोमल भावना भर जाये।

मौसम बदलता गया बदल गयी सब हवाएं और घटायें
आप सभी को बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं।

लोग अपने रजाई को रख देते पेटी में,
आ गए दिन अब बसंत के
मां सरस्वती का आशीर्वाद बने रहे सदा आप के ऊपर

जितना भी करें हम कम हो जाता है
बसंत में पतंग न उड़े तो
सबको गम ही हो जाता है
हैप्पी बसंत पंचमी

जगमगाता है सूरज और
टिम टिम करते सब तारे
बसंत पंचमी में सब
खुश रहे यार हमारे।

इस साल का यह बसंत,
आपको खुशियां दें बहुत अनंत,
प्रेम और उत्साह से
भर दें आपके जीवन में रंग।

आप इन Basant Panchami Wishes in Hindi को अपने दोस्तों के साथ Facebook, Twitter & Whatsapp भेजे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here