वायु प्रदूषण पर स्लोगन

वायु प्रदूषण पर स्लोगन: वायुमण्डल पर्यावरण का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। मानव जीवन के लिए वायु का होना अति आवश्यक है। वायुरहित स्थान पर मानव जीवन की कल्पना करना करना भी बेकार है क्योंकि मानव वायु के बिना 5-6 मिनट से अधिक जिन्दा नहीं रह सकता।

एक मनुष्य दिन भर में औसतन 20 हजार बार श्वास  लेता है। इसी श्वास के दौरान मानव 35 पौण्ड वायु का प्रयोग करता है। यदि यह प्राण देने वाली वायु शुद्ध नहीं होगी तो यह प्राण देने के बजाय प्राण ही लेगी। इसलिए ज्यादा से ज्यादा पेड़ पौंधे लगाएं और पेड़ों को काटने से रोकने का प्रयास करना जरूरी है। जिससे हमारा वातावरण साफ़ और सुद्ध रहेग। यहाँ हम वायु प्रदूषण पर स्लोगन प्रस्तुत कर रहे हैं आप इन्हें अपने दोस्तों के साथ भी शेयर कर सकते हैं।

Air Pollution Slogans In Hindi

वायु प्रदूषण पर स्लोगन | Air Pollution Slogans in Hindi

1. वायु प्रदुषण को रोको, अपने बच्चो के भविष्य की और देखो!!

2. सांसो को भी मिल नहीं रहा शुद्ध हवा का झोंका, सोचों कोन कर रहा है किसके साथ धोका!!

3. हमें चाहिए – स्वच्छ, सुन्दर, शुद्ध, हवा!!

4. कुछ पाने के लिये हमने कीमत कितनी चुकाई, अपनी सांसो को खुद हमने जहेरली हवा दिलाई!!

5. वायु प्रदुषण बढ़ रहा है, नई बीमारियाँ ला रहा है!!

6. सारी धरती करे पुकार, पर्यावरण का रखे खयाल!!

7. शुध्द हवा की जरूरत है, क्योकि जीवन बहुत खुबसूरत है!!

8. वायु प्रदुषण एक समस्या है, हमें इसे जड़ से मिटाना है!!

9. पेड़ हो रहे है तेजी से कट, मनुष्य की आयु में हो रही है घट!!

10. कंपनीयो की चिमनियों से निकल रहा है धुआं, ये है इंसानों की ज़िंदगी के लिए एक बड़ा जुआ!!

11. शुद्ध हवा बच्चों को, तो ब्रेक अपने वाहन को!!

12. पेड़ लगाओ, जीवन बचाओ, इस धरती को स्वर्ग बनाओ!!

13. हमें चाहिए – स्वच्छ, सुन्दर, शुद्ध, हवा!!

14. विकास और विज्ञान की ये कैसी हवा आयी, खुद के हाथो से हमने खुद की चिता सजाई!!

15. प्रदूषण जो तेजी से बढ़ रहा है, नई नई बीमारियाँ पैदा कर रहा है!!

16. वायु प्रदूषण एक समस्या है, हमें इसे जड़ से मिटाना है!!

वायु प्रदूषण पर नारे

वायु प्रदूषण के कुछ ऐसे प्रकृति जन्य कारण भी हैं जो मनुष्य के वष में नहीं है। मरूस्थलों में उठने वाले रेतीले तूफान, जंगलों में लग जाने वाली आग एवं घास के जलने से उत्पन्न धुऑं कुछ ऐसे रसायनों को जन्म देता है, जिससे वायु प्रदूषित हो जाती है, प्रदूषण का स्रोत कोई भी देष हो सकता है पर उसका प्रभाव, सब जगह पड़ता है।

अंटार्कटिका में पाये गये कीटाणुनाशक रसायन, जहाँ कि वो कभी भी प्रयोग में नहीं लाया गया, इसकी गम्भीरता को दर्शाता है कि वायु से होकर, प्रदूषण एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँच सकता है।

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here