कटहल के फायदे एवं नुकसान – Kathal Benefits & Side Effects in Hindi

कटहल के फायदे Benefits of Jackfruit in Hindi: कटहल की सब्जी का मजा किसी Non-vegetarian सब्जी से कम नहीं है। इसकी सब्जी हर किसी को बहुत पसंद आती है। कटहल के गुणकारी लाभों के बारे में बात करें तो यह हमें हृष्ट-पुष्ट और सेहतमंद बनती है। कटहल में कई सारे पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं जिनमे विटामिन A, विटामिन सी, पोटेशियम, कैल्शियम, थाइमिन, आयरन, नियासीन और ज़िंक प्रमुख हैं। यह फल कच्चे में सब्जी, अचार और पकोड़े बनाने में आता है और पाक जाने के बाद भी इसे खाया जाता है। पकने के बाद इसका स्वाद केले की तरह होता है आइये जानते हैं कटहल के फायदे विस्तार पूर्वक हिंदी में।

कटहल में प्रोटीन और स्टार्च की मात्रा बड़े पैमाने में होती है। यह गर्मियों में ज्यादतर होता है। इसकी बाहरी सतह काफी सख्त होती है।इसमें फाइबर की मात्रा बहुत अधिक और कैलोरी बहुत कम होती है इसलिए यह मोटापे को कम करने और स्दिल के रोगियों के लिए बहुत अच्छा होता है। यही नहीं कटहल हमारी आंखों की रोशनी के लिए भी बहुत उपयोगी है। इसमें पोटाशियम आदि तत्व भी भरपूर मात्रा में मौजूद हैं।

के फायदे एवं नुकसान Jackfruit Kathal Benefits and Side Effects in Hindi
कटहल खाने से अद्भुत स्वास्थ्य लाभ 

कटहल के फायदे – Kathal Ke Fayde in Hindi

वजन कम करें

कटहल में फाइबर की मात्रा उच्च और कैलोरी बहुत कम होने की वजह से यह वजन को कम करने में सहायक होता है। इसके सेवन आपको बहुत देर तक भूख नहीं लगती है और शरीर में पोषक तत्व भरपूर मात्रा में चले जाते हैं।

आँखों के लिए बेहतर

कटहल में विटामिन A उच्च मात्रा में पाया जाता है जो आँखों के लिए बेहतर पोषक तत्व है। यह आँखों की दृष्टि में सुधार के साथ-साथ मोतियाबिंद, रात को कम दिखाई देना जैसी परेशानियों को दूर करने में मदद करता है। कटहल में मौजूद विटामिन सी स्वस्थ कोशिकाओं को बढ़ावा देता है और रेटिना कोशिकाओं के उचित कार्य को बनाये रखने में मदद करता है।

पाचन तंत्र को मजबूत करे

कटहल को काटने से निकलने वाला गूदा हमारे स्वास्थय के लिए बहुत उपयोगी होता है। यह गूदा फाइबर का हिंसा है जो कि पाचन तंत्र को बेहतर करता है। जो लोग कटहल खाना पसंद करते हैं उनका पेट अकसर साफ रहता है। इसके पीछे यही वजह है शरीर के अनुपयोगी चीजों को कटहल आंत में धकेल देता है। इससे पेट साफ रहता है और कब्ज जैसी समस्या नहीं होती।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाए

विटामिन ए और विटामिन सी से भरपूर कटहल हमारे प्रतिरक्षा पणाली को मजबूती देने में सहायक होता है। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट शरीर में मुक्त कणों को शरीर से निष्क्रिय करने में मदद करता है जिससे सेल झिल्ली और डीएनए को भी कोई नुक्सान नहीं पहुँचता है। यह शरीर को वायरल और विक्टोरिया के खिलाफ मजबूत प्रतिरोधक बनाता है।

आयरन की कमी दूर करे

आयरन से भरपूर कटहल एनीमिया रोग को जड़ से मिटाने में सहायता करता है। यह रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ावा देता है। उच्च विमताएँ सी होने की वजह से यह शरीर में आयरन के अवशोषण को सुधारती है। पोषण प्रदान करने के अतिरिक्त यह रक्त की आपूर्ति को पुरे शरीर में ऑक्सीजन के द्वारा पूरी करने में मदद करता है।

शरीर को नयी ऊर्जा दे

कटहल में ऐसे पौष्टिक पोषक तत्व होते हैं जो शरीर को नयी ऊर्जा देने में सहायता करते हैं। इसमें मौजूद सुक्रोज और फ्रुक्टोज रक्त में शर्करा के स्तर को प्रभावित कर शरीर को त्वरित ऊर्जा देते हैं। यह शरीर में चयापचय को भी बढ़ावा देता है जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करने के लिए तेजी से कैलोरी को बर्न करने में मदद करता है।

हड्डियों को मजबूत करे

कटहल में मौजूद पोषक तत्व मैग्नीशियम, कैल्शियम के अवशोषण में मदद करता है। कैल्शियम और मैग्नीशियम हड्डियों को मजबूत बनाने के साथ साथ अस्थि-सम्बन्धी विकारों जैसे आस्टियोपोरोसिस को रोकते हैं। इसके अलावा यह शरीर में होने वाले नुक्सान को भी रोकता है यह हड्डियों में कैल्शियम के घनत्व में सुधर करता है।

कैंसर के खतरे को कम करे

यदि किसी मरीज के मलाशय में चोट या अन्य कोई समस्या हो तो उन्हें कटहल खाना चाहिए क्योंकि इससे मलाशय में हुई चोट ठीक होती है और कैंसर होने से रोकती है। इसमें मौजूद विटामिन सी वायरल के मुक्त कण को ख़त्म करता है, जो कोशिकाओं को नुक्सान पहुंचते हैं और कैंसर का कारण बन सकते हैं।

थायराइड रोग से बचाव

कटहल में पाया जाने वाला तांबा हार्मोन उत्पादन और अवशोषण में मुख्या भूमिका निभाता है। कटहल में मौजूद विटामिन बी हाइपोथायरायडिज़्म से निपटने में मदद करता है। बिटामिन भी थॉयरॉइड कार्यों के लिए महत्वपूर्ण होता है जो कई विकारों के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। इसमें मौजूद पोटेशियम, मैग्नीशियम, जस्ता थायरॉइड कार्यों को सुधरने में मदद कर सकते हैं।

त्वचा को स्वस्थ बनाये

कम उम्र में बुढ़ापा की समस्या को हो तो उसके लिए कटहल सबसे अच्छा होता है। यह बुढ़ापे को रोकने में मदद करता है। इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण उच्च-ऑक्सीकारक तनाव और प्रदुषण के कारण बनाने वाले मुक्त कणों की क्षति को रोकते हैं। यह त्वचा से झुर्रियां, सूखेपन को कम कर नमी प्रदान करता है।

कटहल के नुकसान – Kathal Ke Nuksan in Hindi

  • एक्सपर्ट्स के अनुसार प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को कटहल न खाने की सलाह दी जाती है।
  • कटहल का ज्यादा सेवन करने से अपच और अन्य पेट की समस्याएं होती हैं।
  • जो लोग वात की समस्या से पीड़ित है उनको इसके सेवन से बचना चाहिए।
  • पका हुआ कटहल कफवर्धक है इसलिए सर्दी-जुकाम, खांसी आदि रोगों से प्रभावित व्यक्तियों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  • डायबिटीज से पीड़ित व्यक्तियों को कटहल के सेवन से परहेज करना चाहिए।

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here