इलायची के फायदे, गुण एवं नुकसान – Cardamom (Elaichi) Benefits and side effect in Hindi

इलायची स्वास्थ्य के लिए हो या स्वाद के लिए दोनों तरह से काफी फायदेमंद होती है। इलाइची लगभग हर रसोई में होती है। छोटी इलाइची हो या बड़ी दोनों ही अपना-अपना फायदा हमें देती हैं। जहाँ बड़ी इलाइची को मुँह की दुर्गन्ध दूर करने व मशालों के रूप में इस्तेमाल किया जाता है वहीँ छोटी इलाइची खुसबू बढ़ाने के लिए काम आती है। इलाइची में कैल्शियम, पोटेशियम, सल्फर, आयरन, मैगज़ीन, मैग्नीशियम जैसे पौष्टिक तत्व पाए जाते हैं। इसके अलावा यह कई महत्वपूर्ण विटामिनों से समृद्द होता है जिनमें राइबोफ्लेविन, नियासिन और विटामिन सी पाया जाता है। तो चलिए आज हम आपको इलाइची के फायदे एवं औषधीय गुण बताते हैं। जहाँ तक इलाइची के गुणों की बात करें तो यह एंटीऑक्सीडेंट, रोगों से लड़ने, पेशाब की समस्या, भूख बढ़ाने, भोजन को पचने, आक्षेपनाशक जैसे बेहतरीन गुणों से भरपूर है। यहाँ हमारे द्वारा Elaichi ke fayde स्वाथ्य के लिए काफी फायदेमंद साबित होती है। इलायची के गुण, फायदे एवं नुकसान – Cardamom (Elaichi) Benefits and side effect in Hindi.

के गुण फायदे एवं नुकसान Cardamom Elaichi Benefits and side effect in Hindi
इलायची से होने वाले स्वास्थ्य लाभ 

इलायची के फायदे – Elaichi Ke Fayde in Hindi

पाचन तंत्र में सुधार करे

इलायची में वातनुलोभक गुण पाए जाते हैं जो पाचन क्रिया को सुधारने में मदद करते है। ज्यादा खाने या अनियमति समय में भोजन करने से पेट के फूलने की समस्या, पेट दर्द, पेट में ऐंठन को ठीक करने में फायदेमंद होती है। यह पित्त के प्रभाव में भी सुधार लती है जिससे वसा के पाचन और अन्य पोषक तत्वों में सुधार आता है।

मुँह की दुर्गन्ध दूर करे

एंटी बैक्टीरियल गुण होने के कारण इलाइची मुंह में पैदा होने वाले बैक्टीरिया को खत्म कर देती है। जिससे मुँह की महक सुगन्धित हो जाती है। इलाइची के बीजों से निकलने वाला तेल मुँह के इन्फेक्शन को ख़त्म कर देती है। रोज खाना खाने के बाद इलाइची को चबाकर सेवन करें। इसके अल्वा आप इसका सेवन चाय या फिर गर्म पानी में इलाइची के पाउडर को घोलकर कुल्ला भी कर सकते हैं।

हृदय गति को नियमित करे

इलाइची में पोटैशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे खनिजों से भरपूर इलायची हृदय स्वास्थ्य के लिए कभी लाभकारी होता है। इसमें मौजूद पोटेशियम शरीर के रक्त, तरल पदार्थों और कोशिकाओं का एक मुख्य घातक है। हृदय गति को नियमित करने और रक्तचाप को नियत्रंण करने में इलाइची काफी लाभकारी होती है।

एनीमिया की कमजोरी दूर करे

इलाइची में महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो एनीमिया के समय विटामिन्स की कमी को दूर करते हैं। इलाइची में तांबा, आयरन, रिबोफ्लेविन, विटामिन सी तथा नियासिन पाए जाते हैं जो एनीमिया के लक्षणों जैसे थकान, कमजोरी कम करते हैं। यह लाल रक्त कोशिकाओं और सेलुलर उपापचय के उत्पादन में मदद करते हैं। जिन लोगों में खून की कमी हो रही हो वे एक गिलास गर्म दूध में एक या दो चुटकी इलायची पाउडर और हल्दी मिलाएं। आप यदि चाहें तो स्वाद के लिए चीनी मिला सकते हैं। एनीमिया के अन्य लक्षणों और कमज़ोरी से राहत पाने के लिए इसे हर रात पिएं।

इलायची का इस्तेमाल दिलाये एसिडिटी से छुटकारा

इलाइची को चबाने से इसमें आवश्यक तेल निकलता है जो आपकी लार ग्रंथियों को उत्तेजित करते हैं। जिससे आपका पेट ठीक प्रकार से कार्य करती है। जिसके परिणामस्वरूप आपकी भूख में सुधार होता है और एसिडिटी में कमी होती हैं। इलायची के आवश्यक तेल एक ठंडा स्वाद और अनुभूति प्रदान करते हैं जो आपको एसिडिटी से होने वाली जलन को दूर करते हैं। एसिडिटी से बचने के लिए रोजाना खाने के एकदम बाद इलायची चबाते हुए कुछ देर सैर करें जिससे आप बेहतर महसूस करेंगे।

इलायची का सेवन अस्थमा की समस्या कम करे

अस्थमा से पीड़ित व्यक्तियों के लिए इलाइची का सेवन बहुत ही लाभकारी हटा है। यह खांसी, घबराहट, साँसों की समस्या, सीने की जकड़न से निजात पाने में मदद करता है। यह सांसों की बीमारी को दूर करके फेफड़ों में रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है है। आयुर्वेद में इलायची को एक गर्म मसाला माना गया है जो शरीर को अंदर से गर्म करता है जिससे कफ के निष्कासन और छाती में जमाव से राहत दिलाता है। सर्दी, जुकाम, खांसी या छाती में जमाव की समस्या के लिए भाप लेते समय गर्म पानी के बर्तन में इलायची के आवश्यक तेल की कुछ बूंदें डालें।

इलायची का औषधीय गुण कैंसर से लड़े

इलाइची में स३ एवं डिम नामक जानने मने कैंसर रोधी गुण पाए जाते हैं जो ब्रैस्ट कैंसर, प्रोटेस्ट कैंसर, ओवेरियन को बढ़ावा देने वाले हॉर्मोन्स की बढ़ोतरी को रोकते हैं। नियमित इलाइची का सेवन करने से कैंसर की समस्या को दूर किया जा सकता है। कैंसर से लड़ने के लिए रोजाना एक चम्मच इलाइची के पाउडर का सेवन करें।

इलायची पाउडर गुर्दे को स्वस्थ रखे

इलाइची किडनी और लिवर दोनों के लिए काफी फायदेमंद होती है। यह मल त्याग को बढ़ावा देती है साथ ही किडनी में कैल्शियम और यूरिया को जमने से रोकती है। नियमित रूप से इलाइची का सेवन करने से किडनी, मूत्राशय और पेशाब सम्बन्धी समस्याएं जैसे पथरी, पेशाब में जलन, बार-बार थोड़ी-थोड़ी पेशाब आणि की समस्या ठीक किया जा सकता है। किडनी को स्वस्थ रखने के लिए नियमित रूप से इलाइची का सेवन करें।

शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकाले

प्रमुख एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर इलाइची शरीर से विषाक्त पदार्थो को बाहर निकलने में मदद करती है। यह मगनीज का अच्छा स्रोत है जो शरीर से फ्री रेडिकल्स को ख़त्म करती है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता और मेटाबॉयलिज़्म को बेहतर बनाती है। शरीर को स्वस्थ और विषाक्त पदार्थों को दूर करने के लिए रोजाना चाय के साथ इलाइची को डालकर सेवन करें।

इलायची खाने से भूख बढे

भूख बढ़ाने में इलायची काफी अच्छा माना जाता है। यह पेट के फूलने की समस्या, ऐठन, एसिडिटी को ख़त्म कर भूख को बढ़ाती है। साथ ही यह पाचक रासो के स्राव को बढ़कर पाचन तंत्र को ठीक कर भूख को बढ़ाने में मदद करती है। अगर आपको कम भूख लगती है तो रोजाना इलाइची का सेवन करें।

इलायची के नुकसान – Side Effect of Elaichi in Hindi

इलायची स्वास्थ्य के लिए लाभकारी तो है अगर हम इसका सही तरह से सेवन करें। इसके विपरीत अगर आप ज्यादा मात्रा में इलाइची का इस्तेमाल करोगे तो इसके दुष्परिणाम भी हैं। आइये जानते हैं इलाइची के नुकशान सेहत के लिए।

  • इलाइची का कई महीनों या सैलून तक उच्च मात्रा में सेवन करने से एलेर्जी की समस्या होने लगती है।
  • इलायची की अत्यधिक सेवन पित्त पथरी के गठन को उत्तेजित कर सकती है।
  • इलाइची के ज्यादा सेवन करने से मल्टी व उबान सी महसूस हो सकती है।
  • लम्बे समय तक इलाइची का सेवन साँस सबंधी विकार को जन्म दे सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here