एचआईवी एड्स के लक्षण, कारण, दवा एवं उपचार – HIV Aids Treatment in Hindi

एचआईवी / एड्स आज के समय में सबसे खतरनाक महामारी में से एक है, आज भी इसका कोई उपचार नहीं है लेकिन अगर आप एड्स फैलने के कारण और इसके लक्षण को जान लेंगे तो इसके संक्रमण से बच सकते हैं। हमारे घरेलू नुस्खे एड्स के इलाज में काफी उपयोगी होते हैं। एच आई वी एक खतरनाक विषाणु है जो शरीर के इम्युनिटी सिस्टम पर नकारातमक प्रभाव डालता है जिससे व्यक्ति का शरीर दिनोदिन कमजोर होते जाता है। इसलिए इससे बचें और अपने शरीर को निरोगी और स्वस्थ रखें। आइये जानते हैं एड्स क्या है, एचआईवी एड्स के लक्षण, कारण, दवा एवं उपचार – HIV Aids Treatment in Hindi क्या हैं।

Aids Ke Lakshan, Karan aur Aids Se Bachne Ke Tarika Upay

एचआईवी एड्स क्या है? What is HIV Aids

एचआईवी का अर्थ है ह्यूमन इम्यूनोडिफिशिएंसी वायरस (Human Immunodeficiency Virus) वो वायरस है जो किसी भी व्यक्ति के शरीर से दूसरे व्यक्ति में संक्रमित हो सकता है। और दूसरे व्यक्ति को भी अपने गिरफ्त में ले लेता है।

एचआईवी कैसे फैलता है 

एचआईवी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में संक्रमित द्रव के आगमन से फैलता है। इसके मुख्य कारण ये हैं..

  • संक्रमित व्यक्ति के रक्त का स्वस्थ व्यक्ति के रक्त में मिलना
  • संक्रमित व्यक्ति के वीर्य से
  • स्तन का दूध पिलाने से
  • यौनि तरल पदार्थ से

आमतौर पर लोग एचआईवी पॉजिटिव होने का मतलब एड्स समझने लगते हैं लेकिन ऐसा नहीं है। एचआईवी पॉजिटिव होने के बाद ८ से १० साल में पीड़ित की रोग प्रतिरोधक शक्ति बहुत कम हो जाती है और वह दूसरे अन्य रोगों से लड़ने की क्षमता को बंद कर देता है इसे एड्स कहते हैं।

एचआईवी के फैलने के कारण 

  • एचआईवी संक्रमित व्यक्ति के सिरिंज, सुई को स्वस्थ व्यक्ति पर इस्तेमाल करने से
  • बिना कंडोम के यौन सम्बन्ध बनाने से
  • एचआईवी संक्रमित गर्भवती महिला से जन्म के समय और स्तनपान करते बच्चे को सबसे ज्यादा फैलता है।
  • एचआईवी संक्रमित व्यक्ति से रक्त लेने से।
  • एचआईवी व्यक्ति के द्वारा चबाये गए भोजन का सेवन करने से
    संक्रमित व्यक्ति के कटे, जले घाव के रक्त से संपर्क

एचआईवी एड्स के लक्षण – Symptoms of HIV AIDS?

एक शोध के अनुसार, एचआईवी के शुरुवाती दिनों में इसका पता नहीं चल पाता है और व्यक्ति को इलाज करवाने में देर हो जाती है। आइये जानते हैं एचआईवी के लक्षण क्या हैं।

  • बार बार बुखार आना या कई बार तेजी से बुखार आना
    एचआईवी का सबसे पहला लक्षण है।
  • पिछले कुछ दिनों से थकान महसूस करना और शरीर में थकावट भी एचआईवी का शुरुवाती लक्षण होता है।
  • मांसपेशियों में खिचाव भी एचआईवी का लक्षण होता है।
  • अगर आपके जोड़ों में दर्द या सूजन हो रही है तो आपको एचआईवी का टेस्ट करवा लेना चाहिए।
  • बार-बार फंगल इन्फेक्शन होना।
  • अत्यधिक वजन कम होना
  • रात में सोने के बाद ज्यादातर पसीना आना एचआईवी का लक्षण है।
  • सिर में हर समय हल्का-हल्का दर्द रहना, शुबह के समय दर्द में आराम और दिन के ढलने तक बहुत ज्यादा होना एचआईवी का लक्षण है।

एचआईवी एड्स का उपचार – HIV Aids Treatment in Hindi

एचआईवी का डायग्नोसिस आज के समय में सभी सरकारी अस्पतालों में गुप्त और निशुल्क तरीके से किया जा रहा है। अगर किसी भी व्यक्ति में एचआईवी पॉजिटिव पाया जाता है तो उस व्यक्ति को एड्स है या नहीं उसका डायग्नोसिस करवाना पड़ता है।

इसके लिए एचआईवी पॉजिटिव का रक्त सैंपल लिया जाता है और CD4 कोशिकाओं की गिनती की जाती है। अगर CD4 कोशिकाओं की गिनती 200 cells/mm3 या उससे कम हो तो इससे यह पता चलता है की उस व्यक्ति का प्रतिरक्षा प्रणाली(Immune System) बहुत बुरी तरीके से नष्ट हो चूका है।

एक स्वस्थ व्यक्ति का CD4 गिनती 500 से 1,600 cells/mm3 पाया जाता है।

एचआईवी एड्स से कैसे बचें – घरेलू इलाज 

  • गलत लोगों या वेश्या से यौन सम्बन्ध नहीं बनायें।
  • दादी या उस्तरा बनवाने के लिए नाइ से नयी ब्लेड का इस्तेमाल करें।
  • एक से अधिक लोगों से यौन सम्बन्ध नहीं बनवाएं।
  • अस्पताल में एक सुई एक बार उपयोग होने पर दोबारा इस्तेमाल नहीं करें।
  • अस्पताल में खून चढ़वाने की जरूरत हो तो पहले कन्फर्म कर लें की रोगी एचआईवी एड्स से ग्रसित न हो।

यहाँ पढ़ें: एसिडिटी के घरेलू उपाय एवं पेट में जलन का उपचार इलाज

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here