कैंसर के लक्षण, कारण, उपचार, दवा, घरेलू इलाज – Cancer se Bachne ke Upay

Cancer se Bachne ke Upay: कैंसर के इलाज का उपाय खोजने से अच्छा है कि इससे बचा ही जाए। कैंसर एक खतरनाक जानलेवा बीमारी है जिससे बचने के लिए हमें कुछ अधिक नही करना होता है। लेकिन अगर हम कैंसर के लक्षण और कारण जान लें तो हम इससे बच सकते हैं। सही समय पर कैंसर का पता लग जाए तो इसका इलाज बहुत ही आसान है। पुरुषों में मुँह, प्रोस्टेट, खाने की नाली, आवाज वाली नाली, फेफड़ों, गला और ओरल कैंसर होता है जबकि महिलाओं में गर्भाशय, मस्तिष्क, पित्ताशय, थायरॉइड के कैंसर की संभावनाएं होती हैं। आज हम आपको कैंसर का इलाज, और इसपर काबू पाने के प्राकृतिक घरेलू तरीके आयुर्वेदिक नुस्खे के बारे में बताने जा रहे हैं जिनकी मदद से आप कैंसर से बच सकते हैं। कैंसर के उपचार का सही ज्ञान होना बहुत जरूरी है। प्रारंभिक लक्षणों से आप डॉक्टर की सलाह जरूर लें। जानिए कैंसर के लक्षण, कारण, उपचार, दवा, घरेलू इलाज – (Cancer se Bachne ke Upay) Home remedies treatment for cancer in Hindi.

Cancer ke Lakshan कैंसर के लक्षण

कैंसर के लक्षण – Symptoms of Cancer in Hindi

कैंसर की बीमारी का नाम सुनते ही हर किसी को डर लगता है। कैंसर से लड़ना इतना आसान नही है। हाल ही में हुए शोध में इस बात का पता चला है कि लंबे टाइम तक एक जगह पर बैठे रहने से कैंसर का कारण बन रहा है। एक ही जगह पर ज़्यादा देर तक बैठने से शरीर की चर्बी और मोटापा बढ़ता है और मोटापे से कैंसर होने की चान्सेस ज़्यादा रहते हैं। आइये पहले जानते हैं कैंसर के लक्षण।

1. पाचन में दिक्कत: एंडरसन कैंसर सेंटर के डॉक्टर बर्थोलोम्यू बबेरस के मुताबिक अगर आपको खाना पचाने में दिक्कत हो रही है तो जल्दी से जल्दी डॉक्टर को दिखाएं। यह कैंसर का लक्षण हो सकता है।

2. कफ या गले में खिचखिच: अगर गले में खराश बनी रहती है और खांसने में खून भी आ जाता है तो ध्यान दे ज़रूरी नहीं कि यह कैंसर ही हो, लेकिन सावधानी बरतनी बहुत ज़रूरी है। ख़ासकर अगर कफ ज़्यादा दिन तक बना रहे तो डॉक्टर को तुरंत दिखाएँ।

3. पेशाब में खून का आना: डॉक्टर्स बेवर्स के मुताबिक, अगर आपके पेशाब में खून आता है तो ब्लैडर या किडनी का कैंसर हो सकता है, लेकिन यह इन्फेक्शन भी हो सकता है। सही जानकारी के लिए नजदीकी अस्पताल में दिखाना बहुत जरूरी है।

4. अगर घाव न भर रहे हों: शरीर में किसी भी भाग पर चोट लगने से घाव हो जाए और अगर वह घाव 3 हफ्ते के बाद भी नहीं भरता है तो डॉक्टर को दिखाना बेहद जरूरी है।

5. महिलाओं में: अगर मासिक चक्र के बाहर भी रक्त संचरण नहीं रुकता है तो महिलाओ को ध्यान देने की जरूरत है। यह सर्वाइकल कैंसर की शुरुआत हो सकता है।

6. जल्दी से वजन का घटना: डॉक्टर के मुताबिक, जवानो का वजन आसानी से नहीं घटता, लेकिन अगर आप बिना किसी कोशिश के दुबले होते जा रहे है तो ज़रूर ध्यान देने की बात है यह कैंसर का संकेत हो सकता है।

7. गांठ बनना: कभी भी कही भी अगर गाँठ महसूस हो तो उसपर ध्यान दें। हलाकि हर गाँठ ख़तरनाक नहीं होती है। स्तन में गाँठ होना स्तन कैंसर की तरफ इशारा करता है। ऐसे में डॉक्टर की राय लेना बहुत जरूरी है।

8. निगलने मे तकलीफ़: गले मे कैंसर का एक बहुत अहम संकेत यह भी है गले मे तकलीफ़ होने पर लोग आमतौर पर गर्म खाना खाने की कोशिश करते है। लेकिन डॉक्टर के पास नहीं जाते जो की सही नहीं है।

9. त्वचा में बदलाव आना: स्किन कैंसर होने पर हमारी त्वचा में बदलाव आने लगता है। स्किन कैंसर में आपकी त्वचा में कालापन, पीलापन, लाल-लाल चकत्ते, खुजली होना या स्किन पर अत्यधिक बालों का उगना हो सकता है।

10. बार-बार बुखार आना: कैंसर होने पर आपको बार-बार बुखार आने की समस्या होती है। कैंसर होने पर शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता पर प्रभाव पड़ता है। जिससे शरीर की अंदुरुनी इन्फेक्शन से लड़ने की क्षमता कम हो जाती है। जिससे मरीज को बार-बार बुखार आने लगता है।

कैंसर के कारण – Causes of Cancer in Hindi

  • तंबाकू, पान मसाला, सुपारी या खैनी जैसे चीजों का सेवन करने से कैंसर होने की संभावना ज्यादा रहती है।
  • शराब के सेवन से गले, ओरल और पेट के कैंसर का खतरा ज्यादा होता है। शराब और सिगरेट का सेवन करने से कैंसर का खतरा सौ गुना बढ़ जाता है।
  • उन महिलओं को ब्रैस्ट कैंसर होने की आशंका ज्यादा होती है जो स्तनपान नहीं कराती हैं।
  • लम्बे समय तक गर्भ निरोधक दवाओं का इस्तेमाल करने से ब्रैस्ट और लिवर का कैंसर का प्रकोप बढ़ जाता है साथ ही दिल की बिमारियों की आशंका भी बढ़ जाती है।

कैंसर से बचने के उपाय प्राकृतिक तरीके – Cancer se Bachne Ke Upay in Hindi

  1. शरीर को फिट और कैंसर से बचाव के लिए रोजाना सुबह उठकर आप साइकिलिंग, रनिंग और जॉगिंग करें।
  2. पानी का नियमित सेवन करें। कम से कम 3 से 5 लीटर पानी एक दिन में जरूर ले। हो सके तो पानी को गर्म करके ही सेवन करें।
  3. खाना खाने के टाइम पानी का उसे तब तक न हो जब तक जरूरी न हो। खाने खाने के 1 घंटे बाद ही पानी का सेवन करे।
  4. ज्यादा मीठा, ज्यादा नमक का सेवन बिलकुल भी इस्तेमाल न करें। नमक और चीनी एक तरह से शरीर के लिए सफ़ेद जहर होता है।
  5. तला हुआ खाना खाने से फैलॉइटस शारीर के अन्दर जाता है जो कैंसर को बढ़ावा देता है. इसलिए तली हुई चीजों से दूर ही रहे। और ज्यादा मोटा होने से भी बचें।
  6. अपने को तनाव, मानसिक परेशानी से दूर रखें और उन्हें आने न दें। हमेशा शांत स्वभाव में रहें।
  7. शराब, तंबाकू और धूम्रपान का सेवन करते हैं तो अभी से त्याग दें। ये आपके शरीर के लिए जानलेवा हैं।
  8. रोज 3 से 5 बादाम खाने से कैंसर शरीर में नही होता। इससे आपके शरीर में मजबूती आती है साथ ही आपका दिमाग भी बढ़ता है।
  9. अपनी डाइट में सब्जियों का जूस, फलों का जूस जितना इस्तेमाल करेंगें उतना फायदा पहुंचेगा। इनसे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है और शरीर तंदुरुस्त रहता है। .
  10. साफ़ सुथरे वातावरण में अधिक से अधिक रहें। महीने में 1 बार पहाड़ों की सैर पर जरूर जाये।

यदि आप ऑफिस में करते है तो अधिक देर तक एक ही जगह पर मत बैठे रहें। हर 1 घंटे में आप शीट से उठकर थोड़ा बहुत चलते रहें। इससे आपका चलना फिरना लगा रहेगा और आप बीमारी से दूर रहोगे।

कैंसर का इलाज और घरेलू उपचार – Cancer se Bachne ke Upay

Cancer se Bachne ke Upay - Gharelu Upchar कैंसर के बचाव

कुछ बेहतरीन घरेलू उपाय जिनसे आप कैंसर को बच सकते है।

ग्रीन टी और दही का सेवन

दही में मौजूद एसीडोफालूस कैंसर से लड़ने में मददगार होता है। यह शरीर में कैंसर को बढ़ने से रोकते है और दही आँतों में होने वाले कैंसर से बचाती है।

ग्रीन टी यह एंटी-ऑक्सीडेंट होती है यह शरीर के अंदर गंदगी को ख़त्म करके शरीर को सॉफ रखती है। ग्रीन टी कैंसर के सेल्स को पूरी तरह से ख़त्म करने में मददगार होती है। ग्रीन टी में केटेचीन होता है जो कैंसर के प्रभाव को शरीर मे बढ़ने से रोकता है।

लहसुन का सेवन  

कैंसर के मरीज को लहसुन को पीसकर पानी में घोलकर पीना चाहिए यह कैंसर को ठीक कर सकता है. इसलिए नियमित लहसुन पानी पिए। अपने भोजन में भी आप लहसुन का इस्तेमाल करके कई दर इस खतरनाक बीमारी से छुटकारा पा सकते हैं। इसके अलावा रोजाना खली पेट लहसुन की एक या दो काली को खा सकते हैं।

टमाटर कैंसर से लड़ता है

टमाटर में मौजूद प्रोटीन, शरीर में कैंसर के प्रभाव से होने वाले खतरों को कम करते है। रोजाना अपने भोजन में टमाटर का इस्तेमाल करें। इसके अलावा आप टमाटर का जूस पी सकते हैं।

नारियल का पानी

जटा वाले नारियल के पानी के सेवन करने से आँतो और लीवर के कैंसर में फायदा मिलता है। साथ ही यह कैंसर के दूसरे रूपो का भी ख़ात्मा करता है। इसलिए नियमित रूप से जटा वाले नारियल का पानी ज़रूर पीए। और इस भयंकर बीमारी को दूर भगाएं।

सोया का इस्तेमाल

सोया भी कैंसर से लड़ने में एफेक्टिव होता है। सोया में मौजूद गुण फाइटोंयूंत्रियांतस कैंसर को बढ़ने वाले सेल्स को बढ़ने से रोकते है और उनसे लड़ने में सहायक होते है। यह ट्यूमर को बढ़ने नहीं देता और उसके आकार को भी घटाता है। सोया में ओमेगा 3 की मात्रा होती है जो शरीर में पोशक तत्वों को पहुँचकर कैंसर होने के शुरुवती लक्षणों को पहले ही रोक देती है। इसलिए खाने में सोया का इस्तेमाल अधिक से अधिक कर सकते हो।

चुकंदर से कैंसर का इलाज

कैंसर से बचने के लिए चुकंदर का आधा कप रस दिन में 2 से 3 बार पीने से कैंसर को शुरुवात में ही रोका जा सकता है। चुकंदर ब्लड कैंसर से होने वाले इफ़ेक्ट से शरीर को बचाता है।

कलौंजी कैंसर से लड़े

कलौंजी के सेवन करने से लीवर इसे विटामिन ए में बदलता है यह कैंसर रोधी होता है। इसमें मौजूद कैरटिन कैंसर के इफ़ेक्ट को शरीर में नही आने देता।

पत्ता गोभी

पत्ता गोभी में मौजूद इंडोल्स का तत्व बढ़ते हुए कैंसर को रोकता है। इसलिए खाने में पत्ता गोभी का सेवन करें और कैंसर से बचने की कोशिश करें।

कैंसर से बचने के आयुर्वेदिक नुस्खे और टिप्स – Cancer se Bachne ke Upay

  • देसी गाय का मूत्र कैंसर के उपचार में बहुत फायदेमंद होता है। रोजाना ३ से ४ बार गाय का मूत्र पीने से कैंसर रोग में फायदा मिलता है।
  • भोजन में हल्दी का सेवन करने से कैंसर सेल्स बढ़ने से रूकती हैं। हल्दी और तुलसी के सेवन से मुँह के कैंसर का उपचार करने में मदद मिलती है।
  • रोजाना खाली पेट तांबे के बर्तन का पानी पीने से कैंसर के रोग का इलाज में लाभ मिलता है।
  • सोयाबीन या उससे बनी खाद्य पदार्थ के सेवन करने से स्तन और प्रोस्टेट कैंसर से बचाव होता है।
  • सूरज की रौशनी में बैठने से आधे से अधिक रोग कटते हैं। इसलिए जब भी मौका मिले धुप जरूर सेंकें।
  • आधा चम्मच हल्दी और आधा कप देसी गाय का मूत्र मिलकर गर्म करें और मरीज को चाय की तरह पिलायें। यह देसी आयुर्वेदिक नुस्खा कैंसर के इलाज में बेहतरीन है।
  • मीठा, तला हुआ खाना, या ज्यादा मशालेदार भोजन से परहेज करें।
  • कैंसर से बचने और अच्छी सेहत के लिए बाबा रामदेव द्वारा सिखाये योग जरूर करें। योग वीडियो आप यूट्यूब पर भी देख सकते हैं।
  • अधिक लोगों से यौन सम्बन्ध बनाए से गर्भाशय का कैंसर होने का खतरा रहता है।

यहाँ पढ़ें: दमा (अस्थमा) रोग के लक्षण & घरेलू इलाज – Home Remedies for Asthma in Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here