शीर्षासन योग कैसे करें: विधि लाभ एवं सावधानियां

योग कोई भी हो, उसके हमारे जीवन में बहुत फायदे होते हैं। योगासन में के अलग-अलग आसनों में से एक है शीर्षासन। इस आसान को सिर के बल किया जाता है इसलिए इसे शीर्षासन कहते हैं। शीर्षासन को कपालसाना के नाम से भी जाना जाता है। शीर्षासन के बहुत लाभ है इसलिए इस योग में सही माना जाता है। सुखी जीवन जीने के लिए एक्सर्साइज़ हमारे जीवन में बहुत ज़रूरी है। इसलिए चलिए आज हम आपको एक और योगा शीर्षाना के बारे में बताते हैं। सबसे पहले जाने शीर्षासना क्या है, इस योग को कैसे करें? शीर्षासना के फायदे और किन लोगो को शीर्षासन नहीं करना चाहिए। इन सब बातों के बारे में जानने के लिए नीचे पढ़े।

Health Benefits Shirshasana Yoga Steps and Benefits in Hindi

शीर्षासन योग क्या है?

इस आसन को कपालसना के नाम से भी जाना जाता है। इसे करने से हमारा पाचन तंत्र सुधरता है, रक्त परिसंचरण सही होता है। शरीर को स्ट्रॉंग बनता है। शीर्षसन न केवल आपके शरीर के लिए बल्कि आपके चेहरे को भी चमकदार और स्वस्थ बनाए रखने मे बहुत ही फायदेमंद होता है।

शीर्षासन योग विधि Shirshasana Yoga Steps in Hindi

Step 1: सबसे पहले आप कोई चादर या चटाई किसी समतल जगह पर बिछाए।

Step 2: शीर्षासन के लिए सबसे पहले आपको बज्रासन में बैठना पड़ेगा। ध्यान रहे कि आप एस तरह से बैठे की आपके आगे झुकने के लिए भरपूर जगह हो।

Step 3: बज्रासन में बैठकर आप दोनों कोहनियों को ज़मीन पर टिककर दोनों हाथों की उंगलियों को आपस में मिला लें।

Step 4: अब दोनों हाथों की उँगलियों को मिलाकर आपकी हथेलियां ऊपर की ओर होनी चाहिए। जिससे आप अपने सिर को हथेलियों का सहारा दे सके।

Step 5: अब धीरे-धीरे आगे की ओर झुकते हुए अपने सिर को हथेलियों पर रखें और साँस नॉर्मल रखें। फिर धीरे-धीरे अपने सिर पर शरीर का भार आने दें।

Step 6: इस अवस्था में आकर आपको अपने पैरों को आसमान की ओर उठना है ठीक इस तरह से जैसे आप सीधे पैरों के बाल खड़े होते है वैसे ही उल्टा खड़ा होना है।

Step 7: कुछ देर इस पोजिशन में रहे और फिर नॉर्मल पोजिशन मे वापस आ जाए।

शीर्षासन करने से लाभ – Shirshasana Benefits in Hindi 

1-  शीर्षासन योग करने से आत्मविश्वास बढ़ता है और मन का सारा डर दूर भाग जाता है।

2- शीर्षासना का नियमित एक्सर्साइज़ से पेट की सारे अंग जैसे अमाशय, लिवर, किड्नी इत्यादि तंदुरुस्त रहते है और पाचन तंत्र सुचारू रहता है।

3- जो लोग इस आसान को रोजाना करते है उनकी स्मरण शक्ति काफ़ी अधिक बढ़ती है, क्यूंकि इससे मष्तिस्क का रक्त संचार बढ़ता है।

4- शीर्षासना के अभ्यास से चेहरे की झुर्रियां गायब हो जाती है। दरअसल उल्टा खड़े होने की पोज़िशन में ताज़ा पोषण और ऑक्सीजन चेहरे की तरह संचारित होने लगता है।

5- शीर्षासन योग बालों को बढ़ने में भी लाभकारी है। इस योग को करने से सिर के सफेद बाल अपने आप ही काले होने लगते है क्यूंकि इसे करने से सिर को अच्छा पोषण और ब्लड का फ्लो मिलने लगता है।

6- इस आसान से शारीरिक बाल मिलता है, साथ ही इसे करने से पूरे शरीर की मांसपेशियां एक्टिव हो जाती हैं।

7- इस आसन को करने से सिर नीचे की ओर मूड जाता है और चेहरे मे चमक आने लगती है।

8- कब्ज, हर्निया जैसी बीमारियों से निजात पाने के लिए शीर्षासन बेस्ट योगा है।

शीर्षासन के दौरान सावधानियां

  • पहली बार शीर्षासन किसी योगा ट्रेनर की देख-रेख में करें।
  • पहली बारे इस योगा को करने के लिए आप दीवार का सहारा ले सकते हैं।
  • जिन लोगो को कम दिखाई देता है या फिर आँख से रिलेटेड कोई प्राब्लम हो वो लोग इस आसन को ना करें।
  • यदि आपको स्पीकुले की प्राब्लम है या फिर गर्दन मे दर्द हो तो आपको शीर्षासन नहीं करना चाहिए।
  • जिन लोगों का ब्लड प्रेसर बहुत अधिक होता है उन्हे भी ये आसन नहीं करना चाहिए।
loading...

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *