नजला-नकसीर और जुकाम का उपचार के लिए घरेलु उपाय और देसी नुस्खे

मौसम के बदलते ही सर्दी-जुकाम, नजला, नकसीर जैसे समस्याएं होने लगती हैं। वैसे तो यह कोई बड़ी बीमारी नहीं है लेकिन अगर सही समय पर इसका सही उपचार नहीं किया गया तो यह सिरदर्द, बदनदर्द, बलगम जैसे परेशानियों का कारण बन सकता है। समय के रहते ही इस बिमारी का इलाज करना बहुत जरूरी है जिससे आप किसी और नुकसान से बच सकें। सर्दी जुकाम के इलाज और इससे बचने के लिए घरेलु आयुर्वेदिक नुस्खे पुराने समय से ही अपनाये जाते आ रहे हैं जिनका फायदा ही फायदा है और कोई साइड इफ़ेक्ट भी नहीं। इसलिए अगर आप नजला जुकाम से परेशान हैं तो आइये जाने home remedies treatment of Cold and cough (sardi jukaam) in Hindi.

nazla-naksir-aur-zukam-ka-gharelu-upchar

सर्दी -जुकाम होने के प्रमुख कारण – Causes of Cough & Cold in Hindi

  • ज्यादा गर्मी में एकदम से ठंडी चीज खाना।
  • मौसम के बदलने पर।
  • वायरस और बैक्टीरिया के इफेक्शन।
  • प्रतिरक्षा प्रणाली का कमजोर होना।
  • मधुमेह, उच्च रक्तचाप वाले रोगी को।

जुकाम के लक्षण / Symptoms of Cough & Cold in Hindi

  • नाक का बहना या बंद होना।
  • ज्यादा छींक आना।
  • गले में खिस-खिस होना।
  • सिरदर्द।
  • नाक बहने पर नकसीर का हो जाना।
  • नजला से परेशान रहना।

सर्दी जुकाम का 10 घरेलू उपचार और देसी नुस्खे – Cold and Cough Treatment in Hindi

सर्दी ज़ुकाम न सिर्फ सर्दियों में ही होता है बल्कि यह मौसम के बदलते ही होना शुरू हो जाता है। किसी-किसी को तो यह बहुत परेशान करता है। लेकिन अगर आप इन घरेलू उपाय को अपनाएंगे तो आप सर्दी-ज़ुकाम को दूर कर सकते हैं।

  1. जुकाम के घरेलू उपाय में आप हल्दी वाला दूध पियें इससे गले का कफ भी दूर होता है।
  2. गले में खराश की समस्या और नाक का बंद होने पर आप एक गिलास गर्म पानी में चुटकी भर नमक मिलाएं और गरारे करें। इससे गले की खराश भी दूर हो जायेगी।
  3. जब ही सर्दी हो तो सरसो के तेल में कपूर गर्म करके हाथ-पैर के तलवों में माल देना चाहिए, 2-4 बार के उसे से ही सर्दी-जुकाम ठीक हो जाता है.
  4. अमरुद (guava) के पत्ते पानी में उबालकर पीने से भी लाभ होता है। अडूसा के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से सर्दी जुकाम ठीक हो जाता है।
  5. तवा पर सुहागा फुलाकर बारीक पीस ले. इसमें से आधा गम. दिन में 3 बार गर्म पानी से लेने से 2-3 दिनों में ही जुकाम ठीक हो जायेगा.
  6. जुखाम में 5-5 गम अदरक और तुलसी का रस 10 गम शहद में मिलाकर दे. इसके अलावा एक गिलास गर्म दूध में 5 काली मिर्च उबालकर सुबह शाम सेवन करे.
  7. सर्दी जुकाम के देसी इलाज में आप एक गिलास दूध में खजूर को उबाल लें फिर इसका सेवन करें इससे आपको काफी आराम मिलेगा।
  8. अदरक, तुलसी, कालीमिर्च, पुदीना की चाय सर्दी-जुकाम से छुटकारा पाने का अचूक घरेलु उपाय हैं।
  9. सर्दी ज़ुकाम के लिए तुलसी की पत्तियों को चबा कर खाएं या पानी में उबालकर काढ़ा बना लें। इससे आपको काफी आराम मिलेगा।
  10. लहसुन या चिकन सूप सर्दी जुकाम के लिए रामबाण इलाज है।

नजला-नकसीर का इलाज के देसी आयुर्वेदिक तरीके 

  1. नजले के देसी इलाज के लिए 25 गम. सूखा आंवला रात को सोते टाइम पानी में भिगो दे। सुबह छानकर उस पानी को पिएं और आंवले को मसलकर या पीसकर माथे पर लगाये।
  2. रात को सोते टाइम एक कप पानी में 10 गम मुल्तानी मिटटी कूटकर भिगो दे। सुबह उठकर पानी पी जाये और मिट्टी का माथे पर लेप कर दे। यह नजले का आयुर्वेदिक इलाज है।
  3. छोटी कटेरी के ताजे पत्तों का रस 2-2 बूंद नाक में टपकाने से राहत मिलती है।
  4. नकसीर यानि नाक से यदि खून आ रहा है तो माजूफल को बारीक पीसकर सूंघने से खून आना बंद हो जायेगा।
  5. हरी दूब का ताजा रस या प्याज का रस सूंघने से नजला-नकसीर की समस्या दूर होती है।
  6. चाहे कितना भी पुराण नजला की समस्या हो उसके लिए चने भूनें और उसका छिलका उतारकर उसे पीस लें, इसमें से 20 ग्राम चने का आता लें और उसमे 20-20 Gm मलाई या राबड़ी, थोड़ा सा शहद मिला दें इस मिश्रण में 4 बूँद अमृत दाल दें। इससे तुरंत ही नजला से छुटकारा मिलता है।
  7. 4 आवला उबलकर शुद्ध घी में भुन ले और सर पर लेप कर दे, इससे गर्मी की वजह से नाक से आने वाला ब्लड बंद हो जाता है।
  8. कद्दू का रस सुबह शाम नाक में डालने से नाक की बदबू चली जाती है, कद्दू पीसकर उसका रस छान ले तब नाक में टपकाएं।
  9. बार-बार नाक से खून आए तो 20 ग्राम आंवले का रस सुबह शाम सेवन करे।
  10. नाक से यदि खून आ रहा है तो महेंदी की ताज़ी पत्तियां पानी में पीसकर तलवो में लगा दे, खून आना बंद हो जायेगा।

दोस्तों ये हैं सदी जुकाम के घरेलु इलाज और नजला-नकसीर का देसी आयुर्वेदिक नुस्खे। इनका प्रयोग करने से आपको तुरंत ही राहत मिलेगी। ऐसी ही जानकारी के लिए आप हमारे फेसबुक पेज को फॉलो करें। हमारे नए आर्टिकल के लिए हमें सब्सक्राइब करना न भूलें।

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *