मैडिटेशन कैसे करें – ध्यान एकाग्रता टिप्स हिंदी

Meditation Kaise Kare: जब कभी मन किसी एक चीज़ पर नहीं लग पाता तब इंसान बेवजह परेशान हो जाता है। इंसान को समझ नहीं आता की वो क्या करे। किसी एक जगह पर मन स्थिर ही नहीं हो पता है। अगर आपका मन भी किसी काम पर नहीं लगता है और आप ज्यादा तनाव या बेवजह तनाव में रहते हैं तो आपको परेशान होने की ज़रूरत नहीं है। इस परेशानी को छुटकारा पाने के लिए आपको शुबह या शाम रोजाना मैडिटेशन करने की जरूरत है। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं घर पर ही कैसे आप मैडिटेशन कर सकते हैं। ध्यान से आपको काफी फायदा मिलेगा। शुरुआती दौर में ध्यान करने के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं , जिससे आपको घर पर ध्यान करने के लिए मदद मिल सकती हैं।

Meditation Kaise Kare - Dhyan Ekagrata Tips in Hindi

Meditation (ध्यान) का मतलब

अपने दिल, दिमाग़ और मन को इधर-उधर भटकने से रोकने के लिए किसी एक चीज पर फोकस करने को ही मैडिटेशन कहा जाता है। ध्यान करने से गुस्सा, मानसिक तनाव, चिंता दूर होती है।

इसलिए ध्यान लगाना सबसे बड़ी शक्ति है। रोजाना ध्यान करने से आपका मन को नियंत्रित कर सकते हैं। साथ ही एकाग्रता और मानसिक दबाब से मुक्ति मिल जाती है। जिस दिन इंसान को ध्यान की सही वजह मालूम पड़ जाती है। तब वह इंसान भीड़ से अलग अपनी पहचान बना लेता है। लेकिन दिक्कत यह है की किसी को पता ही नहीं होता है मेडिटेशन कैसे किया जाता है। इसिलए हम आपके लिए ऐसे उपाय लाये हैं जिससे आप आसानी से ध्यान घर पर ही लगा सकते हैं।

मेडिटेशन से पहले ध्यान में रखने वाली बातें

  • शांत, साफ़ और खुले हवादार जगह पर ही मेडिटेशन करें।
  • मैडिटेशन करने से पहले शरीर बिल्कुल सीधी हो और तनाव रहित होना चाहिए।
  • जल्दबाजी में ध्यान न करें।
  • यदि आप पहले से ही किसी बीमारी से पीड़ित हो तो ज्यादा देर तक ध्यान न करे.
  • ध्यान करने के लिए आपका मुंह उप्पर या पूर्व दिशा की तरफ होना चाहिए।
  • अपनी इच्छा के अनुसार किसी भी एक चीज़ को ध्यान फोकस करने का साधन बनाए, जैसे उगते सूरज की फोटो अपने मन में बना सकते है, य अपने गुरु. किसी भी एक चीज़ को अपने मन में बसा लें और सिर्फ़ उसी तरफ ध्यान लगाए।
  • ध्यान आपको रोजाना करना है।
  • भोजन हमेशा आपको सादा खाना चाहिए.

मेडिटेशन विधि (ध्यान लगाएं) Meditation Tips in Hindi

1. मैडिटेशन करने के लिए आप सबसे पहले सुखासन में बैठ जाये, यानि पैरो को बंद पलटि करके बैठे।

2. रीढ़ की हड्डी, सिर और गर्दन को बिल्कुल सीधा रखें।

3. अब आंखों को हल्का बंद करें. ध्यान रखें आँखे गीली बंद हो।

4. पूरे बॉडी को बिल्कुल तनाव मुक्त रखें

5. अब अपनी साँसों पर अपना ध्यान केन्द्रित करे। जैसे-जैसे आपकी सांसे चल रही है उन पर ही अपना ध्यान लगाये।

6. इस समय आपके मन में दुनिया के सभी विचार आने लगेंगे साथ ही आपका ध्यान भटकेगा। लेकिन आप अपने विचारो को आने दे और धीरे-धीरे इन विचारो को मन से हटाते रहें। उनके बारे मे ज़्यादा ना सोचे और सांसो को लंबा और गहरा लेते हुए ध्यान लगाएं।

7. जब लंबी सांस ले तब OM का जप करें और जब साँस छोड़ें तब भी ओम का जप करे।

8. थोड़ी देर तक ऐसा करने के बाद फिर सांसो को सामानया तरह से लें। जैसे ही लंबी साँस लें वैसे मन ही मन ओम का जप करें।

9. यदि फिर भी मन इधर-उधर होने लगे तो फिर से मान की वापस एकाग्र करें।

10. बार-बार करने से आपका मान एकाग्र होने लगेगा। मान मे इधर-उधर के विचार आना सिंपल बात है। इन्हे दबाए नहीं और आप ध्यान अपनी सांसो की तरफ लगाए।

11. धीरे धीरे विचार खत्म होंगे और आपका माइंड कंट्रोल होने लगेगा। और दिमाग में अच्छे सुविचार आने लगेंगे।

यदि आप जीवन में उत्साह की कमी महसूस कर रहे हैं और आपकी भावनात्मक समस्याएं आपके काम पर असर दाल रही हैं तो आपको ध्यान का सहारा अवश्य लेना चाहिए। आपके दैनिक जीवन की समस्याओं को सँभालने के लिए ध्यान काम आ सकता है।

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *