Hindi Poems on Friendship Kavita

Hindi Poems on Friendship Kavita: Welcome to our website achisoch.com, hamare dwara aaj aapko friendship par poems kavita milenge. Ham aap dosti par kuchh beautiful lines prastut kar rahe hai. Friendship bahut hi sundar hai agar ham ise dil se nibhaye. Agar aap apne friends ko Friendship poem bhejna chah rahe hai to aap ise direct share bhi kar sakte hai ya bhi in kavitao ko copy karke apne friend ke timeline par paste kare.

Hindi Poems on Friendship Kavita
Hindi Poems on Friendship Kavita

Hindi Poems on Friendship Kavita

तुम थे तो क्या बात थी
हाँ, जब तुम थे तो क्या बात थी
क्या दिन थे वो
जब तुम चुपके से आकर मुझे डरा देते थे
ओर फिर मैं झुंझलाया करतीं थी
ऐ दोस्त सच ,
तुम थे तो क्या बात थी

ज़िंदगी आज भी मज़ेदार है,
पर रंगिनिया कहा अब ,
वो दिन भर गप शप
और चाय की चुस्किया
अब कहां,
ऐ दोस्त, तुम थे तो क्या बात थी

इस तरह मशरूफ़ हैं सब
जैसे इंसान नही मशीन हो
वो अब घंटों तक बगीचे मैं बैठना
और एक दूसरे को छेडना
अब कहां
ऐ दोस्त, तुम थे तो क्या बात थी

समय ने बदल डाले मायने
पहले अपने लिये जीते थे
अब अपनो के लिये जीते हैं
चलो दोस्तो आज फिर से जीते हैं
एक छोटा सा पल अपने लिये रखते हैं
आज फ़िर बेकार की बातो पर हँसते हैं
चलो आज फ़िर जीते हैं
क्युकि
तुम थे तो क्या बात थी


Phulo Se acchi Us Ki Khushbu,
Kaliyo Se Pyari Uski Muskaan,

Sitaro Sa Chamakta Hua Chehra,
Koyal Si Meethi Zubaan,

Chand Bhi Chhup Jaye Ye Keh K,
Aasman Pe Ab Kya Mera Kaam,

Chandni To Aa Nikli Zameen Se,
Kaisi Hai Ye Qudrat Ki Shaan,

Fursat Se Banaya Hoga Rub Ne,
Farishto Ka Nahi Ye Kaam,

Phulon Ne Bhi Hasrat Se Dekha Hoga,
Pariyo Se Sunder Ye Insaan.


दोस्ती

दोस्ती प्यार का मीठा दरिया है
पुकारता है हमें

आओ, मुझमें नहाओ
डूबकी लगाओ
प्यार का सौंधा पानी
हाथों में भर कर ले जाओ।

आओ, जी भर कर गोता लगाओ,
मौज-मस्ती की शंख-सीपियाँ
जेबों में भर कर ले जाओ।

दोस्ती का दरिया
गहरा है, फैला है
इसमें नहीं तैरती
धोखे की छोटी नौका
कोशिश की तो
बचने का नहीं मिलेगा मौका।


Kisi na kisi pe kisi ko aetbaar ho jata hai,
Ajnabi koi shaks yaar ho jata hai,
Khubiyon se nahin hoti mohabbat sadaa,
Khamiyon se bhi aksar pyar ho jata hai.

Kin lafzon mein itni kadvi kasili baat likhoon,
Main sach likoon ke apne haalat likhoon,
Kaise likhoon main chandni raatein,
Jab garam ho ret to kaise main barsat likhoon.

Sabhi nagme saaz mein gaaye nahi jaate,
Sabhi lowg mehfil mein bulaaye nahi jaate,
Kuch paas reh kar bhi yaad nahi aate,
Kuch door reh kar bhi bhoolaye nahi jaate!


हम हमेशा दोस्त रहेंगे

हर ख़ुशी तकलीफ, साथ साथ जीया करते थे
हार हो या जीत एक दुसरे का साथ दिया करते थे
कभी तुम हमसे कभी हम तुमसे रूठ जाया करते थे
फिर हम तुम्हे और कभी तुम हमें मना लिया करते थे
एक दूसरे की हम खुद से ज्यादा परवाह किया करते थे
बस कल ही की बात लगती है
हम तुम अपनी दोस्ती पर कितना इतराया करते थे

यकीन नहीं होता वक़्त साथ हालात इतने बदल जायेंगे
हम अपनी अपनी दुनिया में इस कदर खो जायेंगे
एक दूसरे की जिंदगी में बस याद बनकर रह जायेंगे
खैर हम ना तुमसे, ना जिंदगी से कोई शिकायत करेंगे,
बस इस यकीन को हमेशा दिल में कायम रखेंगे
जब भी दिल से पुकारेंगे, तुम्हें अपने पास पाएंगे


Dosti karo to dhoka mat dena
dosto ko ansu ka tohfa mat dena

dil se roye koi tumhe yad karke
aisa kisi ko mouka mat dena

dosti to sirf itefak he
yeto dilo ki mulakat he

dosti nahi dekhati ye din he ki rat he
is meto sirf vafadari or jajbat he

dard kafi he jindgi ke liye
dost jaruri he jindgi ke liye

kon marta he kiske liye
ham to jinda he sirf aap jaise dost ke liye


Kin lafzon mein itni kadvi kasili baat likhoon,
Main sach likoon ke apne haalat likhoon,

Kaise likhoon main chandni raatein,
Jab garam ho ret to kaise main barsat likhoon.

Sabhi nagme saaz mein gaaye nahi jaate,
Sabhi lowg mehfil mein bulaaye nahi jaate,

Kuch paas reh kar bhi yaad nahi aate,
Kuch door reh kar bhi bhoolaye nahi jaate!

Who ik dost jo pyara sa lagta hain,
Bahut pass hai dil k phir bhi juda sa lagta hain,

Bahut dino se aaya nahi koi paigam uska,
Shayad kisi baat pe khafa sa lagta hain

Example HTML page

loading...