हल्दी के फायदे और नुकसान – Turmeric Benefits and Site Effects in Hindi

आयुर्वेद में हल्दी एक अच्छी जड़ी-बूटी है। यह रोजाना हर घर में हर किसी भी भोजन में पड़ने वाला मशाला है तभी इसे मशालों की रानी भी कहा जाता है। पुराने समय से ही हल्दी को शुभ कार्यों के प्रयोग में लाता आया जाता रहा है। हल्दी में एंटी-ऑक्सीडेंट्स, एंटी-वायरल, एंटी-बायोटिक, एंटी-फंगल और एंटी-इंफ्लेमेटरी जैसे गुण होते हैं। अंदुरुनी- या किसी भी चोट को तुरंत सही करने में हल्दी काफी परफेक्ट जड़ी-बूटी है। यह पेट और त्वचा से समन्धित बिमारियों को जल्द से ख़त्म करने में उपयोगी होता है। आइये जानते हैं हल्दी के आयुर्वेदिक गुण, स्वास्थय फायदे और नुक्सान हिंदी में।

Haldi Ke Gun Fayde Nuksan in Hindi हल्दी के फायदे, गुण, और नुकसान

हल्दी के आयुर्वेदिक गुण

  • हल्दी का प्रयोग पाचन तंत्र को सुधारने में, सूजन को कम करने और शरीर के शोधन में हज़ाओ सालो से इस्तेमाल किया जाता रहा है। इसमें पाए जाने वाले तत्व circumnoids और volatile तेल कैंसर रोग से लड़ने की क्षमता रखते है।
  • सर्दियों में मौसम में हल्दी की गाँठ का इस्तेमाल सबसे अधिक लाभदायक है इस टाइम पर हल्दी से होने वाले फायदे को कई गुना बढ़ा देता है। क्यूंकि कच्ची हल्दी में हल्दी पाउडर से कई ज़्यादा गुण होते है। कच्ची हल्दी के इस्तेमाल के दौरान निकालने वाला रंग हल्दी पाउडर की तुलना मे काफ़ी ज़्यादा गाढ़ा और पक्का होता है।
  • कच्ची हल्दी same to same अदरक (ginger) की तरह होती है, इसे दूध के साथ उबालकर, भोजन में डालकर, चटनी बनाकर और सूप में मिलकर उसे किया जा सकता है।

    हल्दी के बेमिसाल फायदे – Benefits of Turmeric (Haldi) in Hindi

हल्दी और दूध के नॅचुरल प्रतिजाविक गुण होते है। इन दो नॅचुरल तत्वो को अपने आहार में मिक्स कर आप कई बीमारियो से बच सकते है। हल्दी को दूध के साथ मिक्स कर पीने से कई रोग दूर होते हैं। जानिए हल्दी से होने वाले स्वास्थय लाभ।

माहवारी रिलेटेड दर्द : हल्दी वाला दूध माहवारी में होने वाले दर्द से चमत्कारी राहत देता है। गर्भवती महिलाओ को इस सुनहरे दूध को आसान प्रशव, प्रशव बाद सुधार, बेहतर दूध उत्पादन और अंडाशय के तेज सिकुड़ने के लिए लेना चाहिए।

खांसी से राहत: अगर आप नयी या पुरानी किस भी प्रकार की सुखी गीली खांसी से परेशान हैं तो हल्दी इसके लिए रामबाण इलाज है। इसके लिए आप हल्दी की गांठें ले सकते हैं आउट उसे धोकर उसके रस को पीसकर पी सकते हो। इससे जल्द ही आपकी खांसी दूर हो जाएगी।

मुँह के छाले दूर करे: अगर आप मुँह के छालों से परेशान हैं तो आपके लिए हल्दी बहुत ही लाभकारी सिद्ध होगा। इसके लिए आप हल्दी के पाउडर को गरम पानी में मिलकर इस पानी से नियमित रूप से कुल्ला करें। कुछ ही दिनों में आपको इनसे छुटकारा मिलना शुरू हो जायेगा।

चेहरे पर निखार लाए: चेहरे पर अगर काले दाग-धब्बे या मुहासें हैं तो आपको हल्दी को गरम दूध में मिलकर पीना चाहिए। इसके सेवन से जल्द ही आपके चेहरे से सारे दाग-धब्बे और पिम्पल्स गायब हो जायेंगे। इसके अलावा आप हल्दी वाले दूध में राई को भिगोकर अपने चेहरे पर लगाएंगे तो चेहरा और भी सुन्दर और चमकदार बनेगा।

गठिया रोग में मददगार: हल्दी वाला दूध पीने से गठिया से होने वाली सूजन कम होती है और यह जोड़ों और मांसपेशियों में लचीलापन लाता है जिससे गठिया दर्द कम हो जाता है। इसके सेवन से आपके शरीर की हड्डियां और मासपेशियां मजबूत बनती हैं।

कान दर्द सही करे: अगर आपके कान में किसी भी परकार का दर्द होता है तो हल्दी वाला दूध ज़रूर पिए। यह आपके शरीर में रक्त संचार को बढ़ाता है साथ ही कान में हो रहे दर्द को ख़त्म कर देता है।

हड्डिया करे मजबूत: हल्दी वाला दूध कैल्शियम का सबसे अच्छा स्रोत है, जोकि हड्डियो को स्वस्थ और मजबूत रखने के लिए ज़रूरी होता है।

वजन घटाए: वजन को कम करने में भी हल्दी काफी अच्छा माना जाता है। अपने वजन को नियंत्रित करने के लिए आप हल्दी को पानी में मिश्रण कर पी जाएँ। यह शरीर में जमी चर्बी को कम करती है।

दे चोट और मोच में राहत: चोट लगने से घाव बन गया हो या फिर मोच आ गई हो तो आप हल्दी के पेस्ट बनाकर उसको चोट वाली जगह पर बढ़ने से चोट से होने वाली जगह पर बढ़ने से चोट से होने वाला संक्रमण ख़त्म हो जाता है. हल्दी वेल दूध के सेवन से भी चोट भीतर से ठीक होने लगती है।

भरे मधुमेह के घावों को: डाइबिटीज़ के रोगियो को हल्दी का सेवन किसी ना किसी तरह से ज़रूर करना चाहिए। हल्दी डाइबिटीज़ से होने वाले घावों को जल्दी ही भर देती है।

दे सर्दी जुकाम से राहत: यदि सर्दी और जुकाम से नाक बंद हो जाती हो तो हल्दी, शहद और काली मिर्च को मिलकर सेवन करे। नियमित सेवन करने से कुछ दिनों में आपको काफी फायदा मिलेगा।

शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाये: हल्दी पूरी तरह से एंटी-बायोटिक होती है, इसलिए इसके सेवन से आपके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है और बीमारी होने की संभावना कम होती है। हल्दी शरीर में उर्जा देने के साथ शरीर में खून को सॉफ रखती है।

जवान दिखने का असर: हल्दी मे बढ़ती आगे को रोकने की क्षमता होती है। यह आपकी बढ़ती उम्र के असर का पता नहीं लगने  देती है। एक चौथाई हल्दी में कच्चा दूध और बेसन को मिलकर पेस्ट तैयार करें और इसे अपने चेहरे पर अच्छे से लगाए। अब थोड़ी देर सूखने दे और बाद मे चेहरे को हल्के गरम पानी से धो ले।

हल्दी के नुकसान – Side Effect of Turmeric (Haldi) in Hindi

एक ओर जहाँ हल्दी स्वस्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है वही इसके कुच्छ नुक्सान भी है, हालांकि हल्दी तभी नुकसान करती है जब वो बहुत अधिक मात्रा में ली जाए। आइये जानते हैं हल्दी के साइड इफेक्ट्स .

मधुमेह की पोज़िशन मे: हल्दी मे एक रसायनिक पदार्थ सिरकूमीन पाया जाता है. जो ब्लड शुगर को एफेक्ट करता है. ऐसे मे अगर आपको मधुमेह है तो हल्दी वाला दूध पीने से परहेज करना ही बेहतर होगा.

नपुंकसकता का कारण: हल्दी, testosterone के स्तर को कम कर देती है, इससे स्पर्म की सक्रियता में कमी आ जाई है। अगर आप अपनी फैमिली प्लानिंग कर रहे है तो कोशिश कीजिए की हल्दी का सेवन सिमित रूप से करे।

पित्ताशय में समस्या: अगर आपको पित्ताशय से जुड़ी कोई प्राब्लम है तो हल्दी वाला दूध आपकी इस प्राब्लम को और बढ़ा देगा। अगर आपकी पित्त की थैली में स्टोन है तो आपको हल्दी वाला दूध नहीं पीना चाहिए।

ब्लीडिंग प्राब्लम: अगर आपको ब्लीडिंग प्राब्लम है तो हल्दी वाला दूध आपको नुकसान पहुचा सकता है. ये blood quitting की process को कम कर देता है. जिससे bleeding की problem और अधिक बढ़ सकती है.

आइरन का अवशोषण: हल्दी का बहुत अधिक सेवन करने से आइरन का अवशोषण बढ़ जाता है. जिन लोगो मे पहले से ही आइरन की कमी है उन्हे बहुत सोच समझकर हल्दी का सेवन करना चाहिए.

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *