बालतोड़ के घरेलू उपाय और देसी आयुर्वेदिक इलाज

बालतोड़ के घरेलू उपाय: बालतोड़ या फोड़ा तब होता है जब बालों की जड़ में बैक्टीरिया का इन्फेक्शन हो जाता है। शरीर के किसी भी भाग में अगर बाल टूट जाये तो उस जगह पर घाव सा हो जाता है जिसे बालतोड़ कहते हैं। शुरुवात में यह छोटी लाल रंग की फुंसी जैसी होती है जो बाद में धीरे-धीरे बढ़ते ही जाता है। बालतोड़ में दर्द बहुत होता है और कभी-कभी तेज बुखार आ जाता है।

बालतोड़ का शुरुवात में ही इलाज किया जाय तो बेहतर होता है। इसके लिए कई प्राकृतिक तरीके और घरेलू उपाय हैं जिनकी मदद से फोड़े के दर्द को कम कर ठीक किया जा सकताहै। आयुर्वेदिक घरेलू नुस्खे फोड़े के आस-पास बैक्टीरिया के इन्फेक्शन को कम करने में मदद करते हैं। फोड़ा या बालतोड़ का इलाज के बेहतरीन घरेलू उपाय और आयुर्वेदिक तरीके नीचे बताये गए हैं। जो काफी कारगर सिद्ध होंगे। home remedies tip for Boils treatment in Hindi…

Baltod Ke Gharelu Upay Upchar in Hindi बालतोड़ के घरेलु उपाय

बालतोड़ के लक्षण – Boils Symptoms in Hindi

ज्यादातर बालतोड़ जांघ, पीठ में होता है और इसका दर्द बहुत ही असहनीय होता है। अगर आप बालतोड़ के लक्षण जान लें तो इसका इलाज सही तरीके से जल्द किया जा सकता है।

  • फोड़े के चारों ओर त्वचा लाल, गर्म, सूजी हुई होती है।
  • बालतोड़ जागर पर सूजन आने लगती है।
  • फोड़े के आस-पास फोड़े दिखाई देने लगते हैं।
  • फुंसी में पस भर जाना।

बालतोड़ के घरेलू इलाज – Home Remedies Treatment of Boils in Hindi

  1. ताज़ी नीम की पत्तियों को पीसकर पेस्ट बनाये और बालतोड़ पर लगाएं। इसके अलावा आप नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर उस पानी से घाव को धो सकते हैं।
  2. पीपल के पेड़ का छल को घिसकर उसमे थोड़ा-थोड़ा पानी मिलाकर पेस्ट बनायें। अब इस पेस्ट को दिन मे 2 से 3 बार बालतोड़ पर लगाए। इसे लगाने से बालतोड़ का जख्म और दर्द दोनों से राहत मिलती है।
  3. ब्रेड को दूध में भिगोकर बालतोड़ जगह पर लगाएं और कुछ समय सुख जाने के बाद धो लें। यह फोड़े को जल्द पड़ा देगा और सूजन कम करने में मदद करेगा।
  4. लगभग 20 ग्राम नीम के पत्ते को लेकर उसमे 20 ग्राम काली मिर्च को मिलाकर पीसे और पेस्ट तैयार करें। अब इस पेस्ट को बालतोड़ के जख्म पर लगाकर उसपर किसी कपड़े से पट्टी बाँध लें। इससे बालतोड़ जल्दी ठीक होने में मदद मिलेगी।
  5. साफ रुई को tea tree oil में भिगोकर बालतोड़ पर रख दें और उप्पर से कपडे से बाँध लें। हर चार घंटे में रुई को बदलते रहें।
  6. एक चमच मैदे को लेकर घी में थोड़ी देर तक पकाकर उसका पेस्ट बना लें और फिर उस पेस्ट को ठंडा कर के सोते समय बालतोड़ के जख़्मो पर लगाकर किसी कपड़े से बाँध लें। एक से दो दिन ऐसा करने से बालतोड़ ठीक हो जाएगा।
  7. एक चम्मच हल्दी के पाउडर को एक गिलास दूध में घोलकर उबाल लें। इस हल्दी के दूध को दी में दो से चार बार सेवन करें। इसके अलावा हल्दी और अदरक सामान मात्रा में मिलाकर पेस्ट तैयार करें और इस पेस्ट को फोड़े पर लगा लें। उप्पर से कपडा बाँध लें।
  8. महेंदी के पत्ते पीसकर पेस्ट बनायें और बालतोड़ के जख्म पर गाढ़ा करके लगाने से बालतोड़ ठीक हो जाता है।
  9. लहसुन की तीन-चार कलियों को पीसकर पेस्ट बनाएं और फोड़े पर लगा लें। इसके अलावा रोजाना तीन-चार बार लहसुन की गर्म कलियों को घाव पर लगाने से जल्द राहत मिलती है। लहसुन की कलियों का सेवन करने से भी काफी लाभ होता है।
  10. एक कप दूध में तीन चम्मच नमक को गर्म कर मिलाएं। इस मिश्रण को गाढ़ा करने के लिए इसमें थोड़ा आता मिला लें और अब इसे फोड़े पर लगाएं। दिन में तीन-चार इसे लगाने से आपको कुछ ही समय में फायदा मिलना शुरू हो जाएगा।

Comments (1)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *